Bhramari Pranayama Steps - भ्रामरी प्राणायाम के फ़ायदे और नुक़सान

आज हम प्राणायाम के एक प्रकार, भ्रामरी प्राणायाम के बारे में बात करेंगे। हम आपको बतातेंगे की Bhramari Pranayama क्या है, उसके फ़ायदे-नुक़सान और भ्रामरी प्राणायाम करने में आपको क्या ध्यान रखना होगा। यह सब अगर आप जानना चाहते है, तो इससे post के साथ बने रहिये।

Bhramari Pranayama in Hindi

आइए सबसे पहले हम जानते है कि भ्रामरी प्राणायाम क्या है

What is Bhramari Pranayama?

भ्रामरी प्राणायाम को "Humming Bee Breath" या "The Bee Breath" के रूप से भी जाना जाता है। यह प्राणायाम एक शांत साँस लेने का अभ्यास है। जो मन को शांत करता है और हमें हमारे सबसे आंतरिक स्वभाव से जोड़ने में मदद करता है।

Bhramari Pranayama Humming Bee Breath

भ्रामरी एक संस्कृत शब्द है जिसका मतलब "मधुमक्खी" होता है। इस प्राणायाम का नाम "भ्रामरी प्राणायाम" इसीलिए रखा गया है क्योंकि अभ्यास के दौरान गले के पीछे उत्पन्न होने वाली ध्वनि; मधुमक्खी के कोमल गुनगुनाहट की तरह होती है।

How to Perform Bhramari Pranayama? भ्रामरी प्राणायाम करने के Steps

यहाँ हमने आपको "How to do Bhramari Pranayama" के Steps बताये है।

  • भ्रामरी प्राणायाम करने के लिए सबसे पहले आप, अपने आस-पास एक शांतिपूर्ण और स्वच्छ जगह चुने। जैसे कि Garden या बालकनी।
  • एक mat (आसन) पर पैरो को cross करके बैठ जाएँ।
  • अपनी पीठ को सीधा रखते हुए, अपनी आँखें बंद करें और अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करें।
  • अब आप अपने अंगूठे का उपयोग करके, धीरे से अपने कानों को दबाएँ।
  • अपनी दोनों तर्जनी उंगलियों को माथे पर और शेष उंगलियों को पलकों पर रखें।
  • अब दोनों नासिका से गहरी सांस लें और जैसा कि आप बाहर सांस लेते हैं।
  • अपना मुंह खोले बिना एक गुनगुना ध्वनि पैदा करें।
  • और जबड़े, होंठ और गले में कंपन महसूस करें।

Videos





Benefits of Doing Bhramari Pranayama - फ़ायदे

यह रहे भ्रामरी करने के फ़ायदे:

Benefits of Doing Bhramari Pranayama

  • यह प्राणायाम, तनाव (स्ट्रेस) कम करने का सबसे अच्छा इलाज़ है।
  • यह आपके दिमाग़ को शांत करता है, जिसके परिणामस्वरूप आत्म-चिकित्सा होती है।
  • यह blood pressure (रक्तचाप) को कम करता है, जिससे high blood pressure से राहत मिलती है।
  • यह cerebral tension जारी करता है।
  • यह पीनियल और पिट्यूटरी ग्रंथियों को उत्तेजित करता है, इस प्रकार उनके उचित काम के लिए मदद करता है।
  • अगर आपको गर्मी महसूस हो रही है या हल्का सिरदर्द है तो इसमे भी राहत देता है।
  • यह गुस्सा कम करके दिमाग़ शांत करता है।
  • आत्मविश्वास पैदा करता है
  • यह दिल के ब्लॉकेज को रोकने में मददगार है।
  • भ्रामरी प्राणायाम, करने से नींद अच्छी आती है और आपको शांति का अहसास मिलता है।

Side Effects of Bhramari Pranayama - भ्रामरी प्राणायाम के नुकसान

भ्रामरी प्राणायाम का कोई हानिकारक दुष्प्रभाव (यानी कि Side Effect) तो नहीं है। लेकिन अगर कोई इसे ग़लत तरीके करता है, तो कुछ मुश्किलें पैदा हो सकती हैं।

Side Effects से बचने के लिए, हमने यहाँ कुछ बातें बताई है। जिसको ध्यान में रख कर आप इस दुष्प्रभाव से बच सकते है। या किसी योग शिक्षक की भी सलाह ले सकते है।

दुष्प्रभावों से बचने के लिए आप निचे दिए गए Precautions को ध्यान में रखें।

Precautions

  • Bhramari Pranayama को हमेशा खाली पेट किया जाता है।
  • अपनी उंगली को कान के अंदर न रखें।
  • चेहरे पर ज़रा भी दबाव न डालें।
  • गुनगुनाहट करते हुए अपना मुंह बंद रखें।
  • 3 से 4 बार करें, ज़्यादा पुनरावर्तन न करें।

Contraindications:

भ्रामरी प्राणायाम, गर्भवती या मासिक धर्म वाली महिलाओं को नहीं करना चाहिए। यह अत्यंत उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) , मिर्गी, सीने में दर्द या एक सक्रिय कान संक्रमण वाले व्यक्तियों के लिए भी contraindicated है।

इसे जल्दी-जल्दी या लापरवाह स्थिति (लेट कर) में नहीं किया जाना चाहिए।

हम आशा करते है कि आपको हमारा यह article पसंद आया होगा। अगर आपको इस आर्टिकल से related कोई भी सवाल है, तो हमें comment करके ज़रूर पूछें। हम आपको ज़रूर reply करेंगे।

अगर आपको हमारे भ्रामरी प्राणायाम in hindi article में कोई भी गलती दीखे तो आप हमे सही इनफार्मेशन के साथ contact कर सकते है। हमारा उद्देश्य आपको सही जानकारी देना है।

FAQs:

क्या मैं खाने के बाद भ्रामरी प्राणायाम कर सकता हूँ?
भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास खाली पेट किया जाता है। या फिर भोजन करने के कम से कम चार से पांच घंटे बाद किया जाना चाहिए। सूर्योदय से पहले, सुबह जल्दी प्राणायाम करना सबसे अच्छा रहता है।

भ्रामरी प्राणायाम के लाभ क्या है?
तनाव, चिंता, क्रोध और निराशा को कम करता है, रक्तचाप को कम करना और गले की बीमारियों को दूर करता है।

क्या भ्रामरी प्राणायाम नींद के लिए अच्छा है? Bhramari Pranayama for Sleep
हाँ, भ्रामरी से नींद अच्छी आती है, मन शांत और मन प्रसन्न रहता है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां